सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Mal Kangni ke fayede in hindi मालकांगनी ( ज्योतिषमति) के फायदे

मालकांगनी के फायदे (Malkangni Benefits in Hindi )


मालकांगनी एक औषधीय वनस्पति है इसे ज्योतिषमति के नाम से भी जाना जाता है। आयुर्वेदिक ग्रंथों में इसके गुणों का विस्तार से  वर्णन किया गया है। आयुर्वेदिक चिकित्सा के अनुसार कई रोगों में इसका प्रयोग किया जाता है। आयुर्वेद के महान ऋषि ने अपनी पुस्तक चरक संहिता में इस औषधि के कई रोगों में प्रयोग के बारे में वर्णन किया है। परंतु विशेष रूप से उन्होंने इस औषधि का प्रयोग शिरोविरेचनार्थ, अपस्मार, कुष्ठ और मिर्गी जैसे रोगों में विशेष रूप से औषधीय प्रयोग करने का वर्णन किया गया है। मालकांगनी का प्रयोग तेज दिमाग, कमजोरी दूर करना, और पुरुषों के रोगों में भी प्रयोग किया जाता है।
मालकांगनी की प्रकृति गरम होती है इसके फूल पीले और हरे रंग के होते हैं और स्वाद में खाने में थोड़ा कड़वापन होता है। इसके फलों, पत्तों और जड़ों का प्रयोग औषधि के रूप में किया जाता है। इसके बीजों को औषधि के लिए अधिक प्रयोग किया जाता है। गर्म तासीर के व्यक्ति को  इसका प्रयोग अपना बल विचार करके या किसी वैद्य के निर्देशानुसार करना चाहिए।
मालकांगनी के पौधे पहाड़ों और ऊंचे स्थानों पर अधिक पाए जाते हैं। इसकी अधिक मांग होने के कारण किसान खेती के रूप में भी अब इसकी पैदावार करने लगे हैं। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इसकी मांग होने के कारण भारत से इसका निर्यात भी  किया जाता है।

 मालकांगनी के अन्य नाम

 वानस्पतिक नाम   :    सिलाट्रस् पैनीकुलेटस                                                   ( celastrus Peniculatus                                        Wild)

 हिंदी             :     ज्योतिषीय, मालकांगनी


 इंग्लिश         :     स्टाफ ट्री ( Staff tree )

 संस्कृत         :     ज्योतिष्मति,पारावतपदी,

 उर्दू              :      मालकांगुनी

 तेलुगू            :     बावंची (Banvachi)

 मलयालम       :    वालुलालम (Valulalam)

गुजराती           :    मालकांगणेश

उडिया              :    कटोपेसु, 

मालकांगनी के फायदे --  Benefits of Malkangni in Hindi

• सिरदर्द में मालकांगनी के फायदे 
कुछ लोगों को बार-बार सिर में दर्द होता रहता है यह एक प्रकार की बीमारी है। इससे निजात पाने के लिए हम मालकांगनी का प्रयोग कर सकते हैं। मालकांगनी के पत्ते और जड़ को बराबर मात्रा में लेकर पानी के साथ पीसकर लुग्दी बना लें और उसको सर पर लेप करने से सिरदर्द में तुरंत ही लाभ होता है।

• आंखों की बीमारी में मालकांगनी के फायदे (Benefits  of  Malkangni for eyes  Disease in Hindi )
मालकांगनी के तेल से पैर के तलवों पर मालिश करने से आंखों के सभी रोग नष्ट होते हैं। और लगातार कुछ दिन ऐसा करने से आंखों की रोशनी बढ़ती जाती है।

फेफड़ों की सूजन में मालकांगनी के फायदे (Malkangni Uses to Get Relief from Lungs Swelling inHindi )
मालकांगनी की जड़ को पीसकर उसकी लुग्दी बना ले  और उसे छाती पर लेप कर दें। ऐसा करने से फेफड़ों में आई सूजन और दर्द में राहत मिलेगी। परंतु इस स्थिति को थोड़ा गंभीरता से लें और ऐसे में किसी अच्छे वैद्य का परामर्श लें।

• पेट के रोग में मालकांगनी के फायदे ( Malkangni Benefits to cure Abdominal problems in Hindi )
मालकांगनी का तेल एक से पांच बूंद, सज्जीखार 60 मिलीग्राम तथा हींग 60 मिलीग्राम ले। इन्हें दूध के साथ 15 दिन या 1 माह तक लगातार सेवन करने से पेट के सभी रोग समाप्त होने लगते हैं। अच्छे परिणाम के लिए परहेज से रहे तली हुई और बाजार मैं बने खाद्य पदार्थों का सेवन न करें। मैं आपको यह बात जोर देकर कहना चाहता हूं कि यदि आप कभी भी पेट के रोग से ग्रस्त हैं तो सबसे पहला इलाज अपने पास ही है।और वह है भूखे पेट रहना और बहुत कम मात्रा में हल्की फुल्की चीजों का सेवन करना । जैसे मूंग की दाल आदि, ऐसा करने से बहुत जल्द ही बिना औषधियों के भी पेट के रोगों को दूर किया जा सकता है। इसके विपरीत यदि आप परहेज से न रहें और उल्टा सीधा खाते रहें और उसके बाद रोग ग्रस्त होने पर दवाइयां भी खाते रहें तो औषधियों का भी कोई प्रभाव नहीं पड़ता।

• मासिक धर्म विकार में मालकांगनी सेवन के फायदे 
( Benefits of Malkangni in Menstrual disorder in Hindi ) ---
गुड़हल के फूलों को कांजी के साथ पीस लें  फिर उसमेंंं मालकांगनी के पत्तों को भून कर मिला लें। इस औषधि का कुछ दिन सेवन करने सेेे मासिक धर्म संबंधित रोग समाप्त हो जाते हैं और यदि मासिक धर्म रुका हुआ है तो आरंभ हो जाता है।

• नपुसंकता में मालकांगनी के फायदे ( Benefits of Malkangni in impotence in Hindi )
लगभग 2 ग्राम मालकांगनी के बीजों के चूर्ण को खीर में डालकर खाने से नपुसंकता दोष मिटने लग जाता है।
लगभग चार-पांच बूंद मालकांगनी के तेल को पान में डालकर दिन में दो बार खाने से भी नामर्दी जैसा  रोग समाप्त होने लग जाता है।

• गठिया रोग में मालकांगनी के फायदे ( Malkangni benefits in Arthirits Treatment )
गठिया का रोग बहुत दुखदाई है।कई लोग इससे परेशान रहते हैं, इस रोग में जोड़ों में बहुत दर्द होता है और सूजन आ जाती है। इस रोग में मालकांगनी का प्रयोग किया जा सकता है। लगभग 4 ग्राम मालकांगनी के बीज का चूर्ण लेकर समान मात्रा में मधु मिलाकर सुबह-शाम लगातार कुछ दिन सेवन करने से गठिया जैसा भयंकर रोग समाप्त हो जाता हैं । और शरीर में अन्य बाई बादी (वात) के दोष भी ठीक हो जाते हैं। मालकांगनी के तेल से जोड़ों पर मालिश करनी चाहिए इससेे जोड़ों का दर्द और जोड़ों में आई सूजन समाप्त हो जाते हैं। गठिया रोग में इसका सेवन करते समय ठंडी तासीर की कोई चीज न खाएं। दही, छाछ ,चावल आदि का सेवन न करें।


 






                  




टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Ayurved • What is Ayurved in Hindi • आयुर्वेदिक शास्त्र की भूमिका , आयुर्वेद का अर्थ, आयुर्वेद की परिभाषा, आयुर्वेद का इतिहास, आयुर्वेद के प्राचीन ग्रंथ (Ayurvedic)

                           आयुर्वेद (Ayurved in Hindi) श्री गणेशाय नमः   आयुर्वेद शास्त्र भारतीय ग्रंथो की परंपरा में प्राचीनतम चिकित्सा सिद्धांत का ज्ञान  माना जाता है। आयुर्वेद शास्त्र को विद्वानों ने उपवेद की संज्ञा दी है। भारतवर्ष के सबसे प्राचीन ग्रंथ वेदों से ही इसका प्रादुर्भाव हुआ माना जाता है। जिसके  विषय में अनेक  ऋषियों, आयुर्वेदाचार्यो और विद्वानों ने अपने अपने मतानुसार आयुर्वेदिक ग्रंथों की रचना करके मानव जाति को कृतार्थ किया है। भारतवर्ष के महान ऋषियों ने  अपना ज्ञान प्रदान करके मानव जाति पर बहुत बड़ा उपकार किया है।  इन महात्माओं को हम  शत-शत नमन करते हैं। भूमिका :- आयुर्वेद के विषय में भारतवर्ष के सबसे प्राचीन धार्मिक ग्रंथ वेदों में विवरण दिया गया है।  वर्तमान समय में उपलब्ध  प्राचीनतम ग्रंथ चरक संहिता, भेल संहिता और सुश्रुत संहिता आदि प्रचलन में हैं । इनमें  से चरक संहिता कायाचिकित्सा प्रधान तंत्र है और सुश्रुत शल्यचिकित्सा प्रधान हमको यहां चरक संहिता के संबंध में  कुछ कहना है, चरक संहिता के निर्माण के समय  भी आयुर्वेद के अन्य ग्रंथ विद्यमान थे। चरकसंहि

अस्थि तंत्र क्या है?, what is bone structure in Hindi?, अस्थि तंत्र का मतलब क्या होता है

हमारा अस्ति तंत्र ईश्वर की जटिल कारीगरी का एक उत्कृष्ट नमूना है जिसकी रूपरेखा अधिक से अधिक शक्ति गतिशीलता प्रदान करने के उद्देश्य को ध्यान में रखकर तैयार की गई है । अस्थि तंत्र की प्रत्येक हड्डी की उसके कार्य के अनुरूप एक विशिष्ट आकृति होती है। एक व्यस्क मनुष्य के शरीर में 206 विभिन्न हड्डियां होती हैं इन सभी हड्डियों में से सबसे लंबी हड्डी जांघ की तथा सबसे छोटी  हड्डी कान की होती है।            अस्थि तंत्र हमारे शरीर के लिए ढांचे का कार्य करता है। विभिन्न शारीरिक गतिविधियों जैसे उठना-बैठना, चलना- फिरना आदि के अतिरिक्त अस्थि तंत्र का सर्वाधिक महत्वपूर्ण कार्य शरीर के नाजुक अवयवों जैसे हृदय, फेफड़ों, मस्तिष्क तथा मेरुरज्जु इत्यादि की बाह्य आघातो से रक्षा करना है ।अस्थि तंत्र के उस भाग में जहां लचक की अधिक आवश्यकता होती है वहां हड्डियों का स्थान उपास्थि ले लेती है। वास्तव में हमारी हड्डियां मुड नहीं सकती किंतु जहां दो विभिन्न हड्डियां एक दूसरे से मिलती हैं वह संधि-स्थल कहलाता है संधि-स्थल पर हड्डियां अपनी जगह पर अस्थि- बंन्धको द्वारा मांसपेशियों द्वारा जमी होती है। संधि स्थल पर हड्डि

Aloevera benefits in Hindi धृतकुमारी ALOEVERA

घृतकुमारी ALOEVERA (Aloevera Benefits in Hindi) घृतकुमारी एक औषधीय वनस्पति है। आयुर्वेदिक ग्रंथों में धृत कुमारी के  औषधीय गुणो की महिमा का बहुत वर्णन किया है। इसका विधि पूर्वक सेवन करने से एक स्वस्थ व्यक्ति अपने स्वास्थ्य की रक्षा करते हुए निरोगी जीवन व्यतीत कर सकता है तथा दूसरी ओर यदि कोई रोगी व्यक्ति रोगानुसार विधि पूर्वक इसका  सेवन करें तो वह स्वास्थ्य प्राप्त कर सकता हैं। इसका पौधा भारत में सर्वत्र पाया जाता है। औषधीय गुणों के साथ साथ  सुंदर दिखने की वजह से कुछ लोग इसे गमलों में लगाकर अपने घरों में रखते है। इसमें कांड नहीं होता जड़ के ऊपर से ही चारों तरफ मासल गुद्दे से परिपूर्ण एक से दो इंच  मोटे होते हैं। इसके पत्तों को काटने पर पीताम वर्ण का पिच्छिल द्रव्य निकलता है। जो ठंडा होने पर जम जाता है, जिसे  कुमारी सार कहते हैं। वर्तमान समय में अनेक आयुर्वेदिक औषधियों में इसका प्रयोग किया जाता है। इसकी अधिक डिमांड होने की वजह से भारतवर्ष में व्यापक रूप से इसकी खेती की जाती है। शुष्क भूमि में भी इसकी खेती आसानी से हो जाती है। इसकी खेती में अधिक जल की आवश्यकता नहीं होती इसलिए राजस्था