सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

About Us

Hello my name is Surendra Kumar
I am an Ayurvedacharya and my blog name is Ayurvedic pedia. I have been working in Ayurvedic medicine for the last 30 years and I want to write something about Ayurveda on this blog which is my own experience And which is known in the Ayurvedic scriptures. Whatever I have studied about Ayurveda, I want to reach all the people through the blog. Hope that people will like whatever content I write on my blog. And will be able to prove something useful for their health and life.

Thank you.

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Ayurved • What is Ayurved in Hindi • आयुर्वेदिक शास्त्र की भूमिका , आयुर्वेद का अर्थ, आयुर्वेद की परिभाषा, आयुर्वेद का इतिहास, आयुर्वेद के प्राचीन ग्रंथ (Ayurvedic)

                           आयुर्वेद (Ayurved in Hindi) श्री गणेशाय नमः   आयुर्वेद शास्त्र भारतीय ग्रंथो की परंपरा में प्राचीनतम चिकित्सा सिद्धांत का ज्ञान  माना जाता है। आयुर्वेद शास्त्र को विद्वानों ने उपवेद की संज्ञा दी है। भारतवर्ष के सबसे प्राचीन ग्रंथ वेदों से ही इसका प्रादुर्भाव हुआ माना जाता है। जिसके  विषय में अनेक  ऋषियों, आयुर्वेदाचार्यो और विद्वानों ने अपने अपने मतानुसार आयुर्वेदिक ग्रंथों की रचना करके मानव जाति को कृतार्थ किया है। भारतवर्ष के महान ऋषियों ने  अपना ज्ञान प्रदान करके मानव जाति पर बहुत बड़ा उपकार किया है।  इन महात्माओं को हम  शत-शत नमन करते हैं। भूमिका :- आयुर्वेद के विषय में भारतवर्ष के सबसे प्राचीन धार्मिक ग्रंथ वेदों में विवरण दिया गया है।  वर्तमान समय में उपलब्ध  प्राचीनतम ग्रंथ चरक संहिता, भेल संहिता और सुश्रुत संहिता आदि प्रचलन में हैं । इनमें  से चरक संहिता कायाचिकित्सा प्रधान तंत्र है और सुश्रुत शल्यचिकित्सा प्रधान हमको यहां चरक संहिता के संबंध में  कुछ कहना है, चरक संहिता के निर्माण के समय  भी आयुर्वेद के अन्य ग्रंथ विद्यमान थे। चरकसंहि

अस्थि तंत्र क्या है?, what is bone structure in Hindi?, अस्थि तंत्र का मतलब क्या होता है

हमारा अस्ति तंत्र ईश्वर की जटिल कारीगरी का एक उत्कृष्ट नमूना है जिसकी रूपरेखा अधिक से अधिक शक्ति गतिशीलता प्रदान करने के उद्देश्य को ध्यान में रखकर तैयार की गई है । अस्थि तंत्र की प्रत्येक हड्डी की उसके कार्य के अनुरूप एक विशिष्ट आकृति होती है। एक व्यस्क मनुष्य के शरीर में 206 विभिन्न हड्डियां होती हैं इन सभी हड्डियों में से सबसे लंबी हड्डी जांघ की तथा सबसे छोटी  हड्डी कान की होती है।            अस्थि तंत्र हमारे शरीर के लिए ढांचे का कार्य करता है। विभिन्न शारीरिक गतिविधियों जैसे उठना-बैठना, चलना- फिरना आदि के अतिरिक्त अस्थि तंत्र का सर्वाधिक महत्वपूर्ण कार्य शरीर के नाजुक अवयवों जैसे हृदय, फेफड़ों, मस्तिष्क तथा मेरुरज्जु इत्यादि की बाह्य आघातो से रक्षा करना है ।अस्थि तंत्र के उस भाग में जहां लचक की अधिक आवश्यकता होती है वहां हड्डियों का स्थान उपास्थि ले लेती है। वास्तव में हमारी हड्डियां मुड नहीं सकती किंतु जहां दो विभिन्न हड्डियां एक दूसरे से मिलती हैं वह संधि-स्थल कहलाता है संधि-स्थल पर हड्डियां अपनी जगह पर अस्थि- बंन्धको द्वारा मांसपेशियों द्वारा जमी होती है। संधि स्थल पर हड्डि

Aloevera benefits in Hindi धृतकुमारी ALOEVERA

घृतकुमारी ALOEVERA (Aloevera Benefits in Hindi) घृतकुमारी एक औषधीय वनस्पति है। आयुर्वेदिक ग्रंथों में धृत कुमारी के  औषधीय गुणो की महिमा का बहुत वर्णन किया है। इसका विधि पूर्वक सेवन करने से एक स्वस्थ व्यक्ति अपने स्वास्थ्य की रक्षा करते हुए निरोगी जीवन व्यतीत कर सकता है तथा दूसरी ओर यदि कोई रोगी व्यक्ति रोगानुसार विधि पूर्वक इसका  सेवन करें तो वह स्वास्थ्य प्राप्त कर सकता हैं। इसका पौधा भारत में सर्वत्र पाया जाता है। औषधीय गुणों के साथ साथ  सुंदर दिखने की वजह से कुछ लोग इसे गमलों में लगाकर अपने घरों में रखते है। इसमें कांड नहीं होता जड़ के ऊपर से ही चारों तरफ मासल गुद्दे से परिपूर्ण एक से दो इंच  मोटे होते हैं। इसके पत्तों को काटने पर पीताम वर्ण का पिच्छिल द्रव्य निकलता है। जो ठंडा होने पर जम जाता है, जिसे  कुमारी सार कहते हैं। वर्तमान समय में अनेक आयुर्वेदिक औषधियों में इसका प्रयोग किया जाता है। इसकी अधिक डिमांड होने की वजह से भारतवर्ष में व्यापक रूप से इसकी खेती की जाती है। शुष्क भूमि में भी इसकी खेती आसानी से हो जाती है। इसकी खेती में अधिक जल की आवश्यकता नहीं होती इसलिए राजस्था