सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सफेद मूसली के फायदे।, Safedmusli benefits in Hindi

सफेद मूसली के फायदे (Safedmusli benefits in Hindi)


सफेद मूसली का परिचय

सफेद मूसली एक शक्तिवर्धक औषधीय वनस्पति है जिसका आयुर्वेदिक औषधियों में बहुत प्रयोग किया जाता है। सफेद मूसली के जड़ और बीज का औषधियों में अधिक महत्व होता है। आयुर्वेद में अनेकों औषधियों के निर्माण में सफेद मूसली का प्रयोग किया जाता है। विशेषकर शक्तिवर्धक और वाजीकरण औषधिओं में इसका अधिक प्रयोग किया जाता है। इसकी जड़ों में  कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, पोटैशियम ,फाइबर , कैल्शियम तथा मैग्नीशियम आदि तत्व पाए जाते हैं। इसका कंद औषधीय गुणों से भरपूर होता है जिसका प्रयोग अनेकों रोगों में किया जाता है। यह एक अद्भुत औषधि है। 

Safed musli


यह कामोत्तेजक और कफ को हरने वाला माना जाता है। यह हृदय विकार और डायबिटीज जैसे रोगों में भी बहुत फायदा करता है।यह सांस के रोग में बहुत लाभकारी माना जाता है। और खून की कमी या अनिमिया जैसे रोगों को दूर करता है इसके अलावा यह अनेकों रोगों में इसका अन्य औषधियों के साथ प्रयोग करके लाभ उठाया जा सकता है। आयुर्वेद शास्त्रों में वर्णन मिलता है कि सफेद मूसली का अन्य औषधियों के साथ प्रयोग करके बहुत रोगों को नष्ट किया जा सकता है। यह एक सुपर फूड की श्रेणी में आता है। एक स्वस्थ व्यक्ति भी यदि इसका प्रयोग करें तो वह अपने स्वास्थ्य को उत्तम बनाऐ रख सकता है और अधिक शक्ति प्राप्त कर सकता है इसमें कोई संदेह नहीं। सफेद मूसली जंगलों में पाई जाती है यद्यपि आज आधुनिक युग में इसकी अधिक मांग होने की वजह से इसको खेती के रूप में भी पैदा किया जाता है। कई बड़ी कंपनियां इसको फार्मिंग करके उगाती हैं। तथा भारत के कई राज्यों में किसान भी इसकी खेती करके अच्छा मुनाफा प्राप्त करते हैं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इसकी अधिक मांग होने के कारण भारत से इसका विदेशों में भी निर्यात किया जाता है।


अन्य भाषाओं में सफेद मूसली के नाम

 वैज्ञानिक नाम      --      क्लोरोफॉर्म सैलिसिलिक                                                       (Chlorophytum borivilianum                                    santapaul)

कुल नाम             ---            Liliaceae

अंग्रेजी नाम          ---      इण्डियन स्पाइडरी प्वाइन्ट                                                       (Indian spidry plant)

 हिंदी नाम            ---      श्वेत मूसली

 उर्दू नाम               ---     मूसली सफेद

 तमिल नाम           ---       तनीरवीथंग

 मराठी नाम            ---      कुलई

मलयालम नाम        ---       महादेवीली

 


सफेद मूसली के फायदे  

Safed musli Benefits & Uses in Hindi


कमजोरी दूर करने में सफेद मूसली के फायदे ( Safed Musli Helps to fight Weakness in Hindi)


असंतुलित आहार या अन्य किसी कारण से शरीर में कमजोरी आ जाती है। शरीर की इस कमजोरी को दूर करने के लिए आहार के अतिरिक्त हमें कुछ अन्य पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है जिनके सेवन से शरीर में आई कमजोरी दूर हो जाती है। इस कमजोरी को दूर करने के लिए सफेद मूसली एक अच्छा विकल्प है। यदि आयुर्वेद के अनुसार इसका सेवन किया जाए तो शरीर में आई कमजोरी को दूर किया जा सकता है। सफेद मूसली के कंद का चूर्ण दो से चार ग्राम की मात्रा में लेकर प्रतिदिन उसे दूध के साथ सेवन करना चाहिए और इसका सेवन लगभग 90 दिन तक लगातार करना चाहिए ऐसा करने से शरीर में एक नई शक्ति का संचार होता है और कमजोरी दूर होकर शरीर ताकतवर बनता है।


शुक्राणु को बढ़ाने में सफेद मूसली के फायदे Safed Musli Benefits to Boost sperm Quality in Hindi

•  कई पुरुषों में शरीर में हुई कुछ कमियों के कारण वीर्य में शुक्राणुओं की कमी हो जाती है जिसके कारण वह संतान उत्पत्ति करने के लायक नहीं रह पाते। इस समस्या से परेशान होने की आवश्यकता नहीं इसमें सफेद मूसली पूर्ण रूप से कारगर औषधि है। बस हमें यह पता होना चाहिए कि इसका सेवन किस प्रकार कितनी मात्रा में और कितने दिन तक करना है। 4 ग्राम सफेद मूसली का चूर्ण और उसमें समान मात्रा में शक्कर मिलाकर गाय के दूध के साथ लगभग 90 दिनों तक लगातार सेवन करने से अवश्य ही  शुक्राणु की कमी दूर हो जाती। अच्छे परिणाम के लिए सुबह खाली पेट और रात को सोते समय दोनों समय लेना चाहिए। परंतु इसमें ध्यान देने योग्य बात यह है कि जब आप सुबह खाली पेट इस औषधि को ले तो लगभग 2 घंटे तक कुछ खाए पिए ना इससे आपकी औषधि अच्छे ढंग से काम करेगी। और इसमें परहेज रखने की भी आवश्यकता है।खट्टा,तला हुआ और बाजार की चीजो का सेवन न करें। शक्कर के स्थान पर आप इसमें धागे वाली मिश्री का भी प्रयोग कर सकते हैं। परंतु ध्यान रहे मिश्री  नकली नहीं होनी चाहिए।


कामेच्छा को बढ़ाने में सफेद मूसली के फायदे

Safed Musli benefits in Sexual dysfunction in Hindi

 आज इस आधुनिक युग में गलत खानपान और रहन-सहन के कारण कामेच्छा की कमी पाई जाती है।  इस समस्या से निजात पाने के लिए सफेद मूसली एक ऊत्तम  औषधि है।सफेद मूसली, गिलोय सत, गोखरू, अश्वगंधा, शतावर, सेमलकंद ,आंवला  और मिश्री मिलाकर दिन में दो बार दूध के साथ सेवन करने से अवश्य ही लाभ मिलता है। अच्छे परिणाम के लिए लगातार 90 दिन तक इसका सेवन करें और परहेज से रहे। खट्टा तला हुआ और बाजार में बनी हुई चीजों का प्रयोग ना करें।

टिप्पणियाँ

  1. Thanks for sharing it is a Very Informative page, I hope it will be useful for all of us. , Here you’ll find all the necessary points step by step for How to Care Kalanchoe Plant in Summer worth increasing the grace of your home.

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Ayurved • What is Ayurved in Hindi • आयुर्वेदिक शास्त्र की भूमिका , आयुर्वेद का अर्थ, आयुर्वेद की परिभाषा, आयुर्वेद का इतिहास, आयुर्वेद के प्राचीन ग्रंथ (Ayurvedic)

                           आयुर्वेद (Ayurved in Hindi) श्री गणेशाय नमः   आयुर्वेद शास्त्र भारतीय ग्रंथो की परंपरा में प्राचीनतम चिकित्सा सिद्धांत का ज्ञान  माना जाता है। आयुर्वेद शास्त्र को विद्वानों ने उपवेद की संज्ञा दी है। भारतवर्ष के सबसे प्राचीन ग्रंथ वेदों से ही इसका प्रादुर्भाव हुआ माना जाता है। जिसके  विषय में अनेक  ऋषियों, आयुर्वेदाचार्यो और विद्वानों ने अपने अपने मतानुसार आयुर्वेदिक ग्रंथों की रचना करके मानव जाति को कृतार्थ किया है। भारतवर्ष के महान ऋषियों ने  अपना ज्ञान प्रदान करके मानव जाति पर बहुत बड़ा उपकार किया है।  इन महात्माओं को हम  शत-शत नमन करते हैं। भूमिका :- आयुर्वेद के विषय में भारतवर्ष के सबसे प्राचीन धार्मिक ग्रंथ वेदों में विवरण दिया गया है।  वर्तमान समय में उपलब्ध  प्राचीनतम ग्रंथ चरक संहिता, भेल संहिता और सुश्रुत संहिता आदि प्रचलन में हैं । इनमें  से चरक संहिता कायाचिकित्सा प्रधान तंत्र है और सुश्रुत शल्यचिकित्सा प्रधान हमको यहां चरक संहिता के संबंध में  कुछ कहना है, चरक संहिता के निर्माण के समय  भी आयुर्वेद के अन्य ग्रंथ विद्यमान थे। चरकसंहि

अस्थि तंत्र क्या है?, what is bone structure in Hindi?, अस्थि तंत्र का मतलब क्या होता है

हमारा अस्ति तंत्र ईश्वर की जटिल कारीगरी का एक उत्कृष्ट नमूना है जिसकी रूपरेखा अधिक से अधिक शक्ति गतिशीलता प्रदान करने के उद्देश्य को ध्यान में रखकर तैयार की गई है । अस्थि तंत्र की प्रत्येक हड्डी की उसके कार्य के अनुरूप एक विशिष्ट आकृति होती है। एक व्यस्क मनुष्य के शरीर में 206 विभिन्न हड्डियां होती हैं इन सभी हड्डियों में से सबसे लंबी हड्डी जांघ की तथा सबसे छोटी  हड्डी कान की होती है।            अस्थि तंत्र हमारे शरीर के लिए ढांचे का कार्य करता है। विभिन्न शारीरिक गतिविधियों जैसे उठना-बैठना, चलना- फिरना आदि के अतिरिक्त अस्थि तंत्र का सर्वाधिक महत्वपूर्ण कार्य शरीर के नाजुक अवयवों जैसे हृदय, फेफड़ों, मस्तिष्क तथा मेरुरज्जु इत्यादि की बाह्य आघातो से रक्षा करना है ।अस्थि तंत्र के उस भाग में जहां लचक की अधिक आवश्यकता होती है वहां हड्डियों का स्थान उपास्थि ले लेती है। वास्तव में हमारी हड्डियां मुड नहीं सकती किंतु जहां दो विभिन्न हड्डियां एक दूसरे से मिलती हैं वह संधि-स्थल कहलाता है संधि-स्थल पर हड्डियां अपनी जगह पर अस्थि- बंन्धको द्वारा मांसपेशियों द्वारा जमी होती है। संधि स्थल पर हड्डि

Aloevera benefits in Hindi धृतकुमारी ALOEVERA

घृतकुमारी ALOEVERA (Aloevera Benefits in Hindi) घृतकुमारी एक औषधीय वनस्पति है। आयुर्वेदिक ग्रंथों में धृत कुमारी के  औषधीय गुणो की महिमा का बहुत वर्णन किया है। इसका विधि पूर्वक सेवन करने से एक स्वस्थ व्यक्ति अपने स्वास्थ्य की रक्षा करते हुए निरोगी जीवन व्यतीत कर सकता है तथा दूसरी ओर यदि कोई रोगी व्यक्ति रोगानुसार विधि पूर्वक इसका  सेवन करें तो वह स्वास्थ्य प्राप्त कर सकता हैं। इसका पौधा भारत में सर्वत्र पाया जाता है। औषधीय गुणों के साथ साथ  सुंदर दिखने की वजह से कुछ लोग इसे गमलों में लगाकर अपने घरों में रखते है। इसमें कांड नहीं होता जड़ के ऊपर से ही चारों तरफ मासल गुद्दे से परिपूर्ण एक से दो इंच  मोटे होते हैं। इसके पत्तों को काटने पर पीताम वर्ण का पिच्छिल द्रव्य निकलता है। जो ठंडा होने पर जम जाता है, जिसे  कुमारी सार कहते हैं। वर्तमान समय में अनेक आयुर्वेदिक औषधियों में इसका प्रयोग किया जाता है। इसकी अधिक डिमांड होने की वजह से भारतवर्ष में व्यापक रूप से इसकी खेती की जाती है। शुष्क भूमि में भी इसकी खेती आसानी से हो जाती है। इसकी खेती में अधिक जल की आवश्यकता नहीं होती इसलिए राजस्था